Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2019 · 1 min read

में हूँ हिन्दुस्तान

में हूँ हिन्दुस्तान ————-में हूँ हूिन्दुस्तान
हर मज़हब के लोग यहाँ में इस लिए महान

पहले गैरों ने लूटा अब लूट रहे हैं अपने
मुफलिस के भी ये यहाँ पे बेच रहे हैं सपने

मेरी गोद में रह कर ये ऐसे गुल खिलाये
इनको शर्म ना आए शैतान भी शर्मा जाये

कई गुनाह नही करते माँ के सामने अपनी
ऊपर मेरी ज़मीं के सारे गुनाह कर जाये

और उसको फिर माँ कहें मैं बहुत हैरान
में हूँ हिन्दुस्तान ———–में हूँ हिन्दुस्तान

मन्दिर, मस्जिद, गुरूद्वारे, मेरी गोद में हैं सारे
जब भैद नही में रखता हूँ तुम क्यों रखते हो प्यारे

ज़ात, धर्म, पर करते हो कितना यहाँ बखेडा है
अब तो ऐसा लगता है हर कोई मेरा लुटेरा है

तुम सब लेकर बैठे हो यहाँ अपने-अपने धर्मों को
क्या मुझसे भी पूछा है यहाँ धर्म क्या तेरा है

कोई कहता में सिख,हूँ कोई हिंदू, मुसलमान
में हूँ हिन्दुस्तान————- में हूँ हिन्दुस्तान

इरशाद आतिफ़ अहमदाबाद

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भारत के जोगी मोदी ने --
भारत के जोगी मोदी ने --
Seema Garg
"बेजुबान"
Dr. Kishan tandon kranti
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी....एक सोच
जिंदगी....एक सोच
Neeraj Agarwal
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
जमाना चला गया
जमाना चला गया
Pratibha Pandey
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
इस घर से .....
इस घर से .....
sushil sarna
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
gurudeenverma198
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
गुलमोहर
गुलमोहर
डॉ.स्नेहलता
हर क्षण  आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
हर क्षण आनंद की परम अनुभूतियों से गुजर रहा हूँ।
Ramnath Sahu
Loading...