Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2023 · 1 min read

में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।

में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
जाति धर्म व मत से उठ कर बात करता हूँ।
शोषण देख मानव का चुप नहीं रह सकता।
पीड़ा मे चीखता चिल्लाता हुआ बात करता हूँ।।

भूख से तड़पते तन के निवाले की बात करता हुँ।
खुली ठंड से ठीठुरते हुवे होठों की बात करता हूँ।
में सरकारों की नाकामी पर चुप नहीं रह सकता।
इसलिये चीखता चिल्लाता हुआ बात करता हूँ।।

बोतल बोटी मे बिकते वोटर की बात करता हूँ।
राजनीति मे लगी हुई दीमक की बात करता हूँ।
में हमारी भारत माता की पीड़ा सुनाता फिरता।
इसलिये चीखता चिल्लाता हुआ बात करता हूँ।।

हमारे टूटते परिवारों की बात करता हूँ।
अपने बिखरते रिश्तों की बात करता हूँ।
मिठते हुए संस्स्कृति को नहीं देख सकता
में चीखता चिल्लाता हुआ बात करता हूँ।।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
#गजल:-
#गजल:-
*Author प्रणय प्रभात*
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
” सबको गीत सुनाना है “
” सबको गीत सुनाना है “
DrLakshman Jha Parimal
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
"व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते ।
Mukul Koushik
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
कवि दीपक बवेजा
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sishe ke makan ko , ghar banane ham chale ,
Sakshi Tripathi
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
रंग भरी एकादशी
रंग भरी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
If your heart is
If your heart is
Vandana maurya
Loading...