Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2019 · 2 min read

मेंहदी

नेह प्रेम की प्यारी मेंहदी,
है हम नारियों का सौभाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

देख सखी ये तेरी-मेरी,
हैं सुन्दर रची हथेलियाँ।
आज सुहाग का पर्व मनाएँ,
सब मिल आओ सहेलियाँ।
नवरात्रि गणगौर को पूजें,
प्रेम की कोयल कूके बाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

मेंहदी शुभ सौभाग्य की,
सूचक हर नारी को भाती।
सुन्दर सजी हथेलियों संग,
गोरी साजन को रिझाती।
जिस की हथेली अधिक रंग चढ़े,
उसके होते हैं बड़भाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

सावन की सांवली घटाएँ,
जियरा डग-मग डोले।
मेंहदी रचे गोरी के हाथों,
कंगना खन-खन बोले।
तीजों के त्योहार के संग-संग,
पिया प्रेम की बरसे आग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

सावन में मेंहदी रचवातीं,
प्यारे वीरा जी की बहना।
कर भाई की मंगलकामना,
वह तो है पीहर का गहना।
रक्षा बंधन की पावन डोर,
यह कच्चे से सूत का ताग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

शगुन की मेंहदी हम हैं चढ़ाते,
नवरात्रि दुर्गा काली को।
माँ लक्ष्मी को मेंहदी रचाएं,
हम हर इक दीवाली को।
करवा चौथ, हरितालिका की मेंहदी,
सजाते हैं हम जब रतजाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

जन्म से ले परिणय व अंत तक,
मेंहदी अपना साथ निभाती।
भारत के हर इक मजहब में,
यह अपना अस्तित्व दिखाती।
पल-पल हर इक विधि विधान में,
छेड़े मेंहदी अपना राग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Language: Hindi
280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
"I am slowly learning how to just be in this moment. How to
पूर्वार्थ
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
#एक_शेर
#एक_शेर
*प्रणय प्रभात*
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
बल और बुद्धि का समन्वय हैं हनुमान ।
Vindhya Prakash Mishra
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मुक्तक _ चलें हम राह अपनी तब ।
मुक्तक _ चलें हम राह अपनी तब ।
Neelofar Khan
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
बंदर का खेल!
बंदर का खेल!
कविता झा ‘गीत’
किसान और जवान
किसान और जवान
Sandeep Kumar
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
विजय कुमार अग्रवाल
रामभक्त हनुमान
रामभक्त हनुमान
Seema gupta,Alwar
Loading...