Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 28, 2019 · 2 min read

मेंहदी

नेह प्रेम की प्यारी मेंहदी,
है हम नारियों का सौभाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

देख सखी ये तेरी-मेरी,
हैं सुन्दर रची हथेलियाँ।
आज सुहाग का पर्व मनाएँ,
सब मिल आओ सहेलियाँ।
नवरात्रि गणगौर को पूजें,
प्रेम की कोयल कूके बाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

मेंहदी शुभ सौभाग्य की,
सूचक हर नारी को भाती।
सुन्दर सजी हथेलियों संग,
गोरी साजन को रिझाती।
जिस की हथेली अधिक रंग चढ़े,
उसके होते हैं बड़भाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

सावन की सांवली घटाएँ,
जियरा डग-मग डोले।
मेंहदी रचे गोरी के हाथों,
कंगना खन-खन बोले।
तीजों के त्योहार के संग-संग,
पिया प्रेम की बरसे आग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

सावन में मेंहदी रचवातीं,
प्यारे वीरा जी की बहना।
कर भाई की मंगलकामना,
वह तो है पीहर का गहना।
रक्षा बंधन की पावन डोर,
यह कच्चे से सूत का ताग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

शगुन की मेंहदी हम हैं चढ़ाते,
नवरात्रि दुर्गा काली को।
माँ लक्ष्मी को मेंहदी रचाएं,
हम हर इक दीवाली को।
करवा चौथ, हरितालिका की मेंहदी,
सजाते हैं हम जब रतजाग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

जन्म से ले परिणय व अंत तक,
मेंहदी अपना साथ निभाती।
भारत के हर इक मजहब में,
यह अपना अस्तित्व दिखाती।
पल-पल हर इक विधि विधान में,
छेड़े मेंहदी अपना राग।
रचती रहे यूँ ही हाथों में,
जुग-जुग जीता रहे सुहाग।।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

156 Views
You may also like:
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Er. M. Kumar
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
✍️बेपनाह✍️
'अशांत' शेखर
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
डरता हूं
dks.lhp
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
एक पैगाम मित्रों के नाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
Tell the Birds.
Taj Mohammad
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
*"चित्रगुप्त की परेशानी"*
Shashi kala vyas
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
पलटू राम
AJAY AMITABH SUMAN
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️कुछ राज थे✍️
'अशांत' शेखर
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
😊तेरी मिरी चिड़ी पीड़ि😊
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत का गम है।
Taj Mohammad
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️नफरत की पाठशाला✍️
'अशांत' शेखर
Loading...