Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ

मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ

पंचमहाभूत सार नहीं हूँ, मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ।
माता गर्भाशय अभ्यन्तर,भ्रूण स्थापित रहा निरंतर।
झूले में मैं हीं खिलता था, कदम बढ़ाते गिर पड़ता था।
मुझमें हीं थी हँसी ठिठोली,बाल्य काल के वो हमजोली।
मैं हीं तो था तरुणाई में,यौवन की उस अंगड़ाई में।
दिवा स्वप्न मन को आते थे,उड़न खटोले तन भाते थे।
प्रौढ़ उम्र में तन के ताने,बुढ़ापे में शकल ठिकाने।
बचपन से पचपन तक अबतक,बदल रहा तन मेरा अबतक।
भ्रूण वृद्ध मन का सपना है,रूप रंग तन का गहना है।
ये तन मन हीं मात्र नहीं हूँ,बदल रहा जो गात्र नहीं हूँ।
तन मन से अति दूर तदनंतर,मैं अबदला रहा अनंतर।

अजय अमिताभ सुमन

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
9. पोंथी का मद
9. पोंथी का मद
Rajeev Dutta
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उमंग
उमंग
Akash Yadav
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
जिंदगी एक ख़्वाब सी
जिंदगी एक ख़्वाब सी
डॉ. शिव लहरी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
पूर्वार्थ
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
दुनिया भी तो पुल-e सरात है
shabina. Naaz
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...