Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

मृत्यु संबंध की

डॉ अरुण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

🌹🌹 संबंध 🌹🌹

कमजोर पड़ रही अब
रिश्तों की डोर बा ।
हाँथ से फिसल रहे
सगरे स्नेहिल संबंध बा ।
बात – बात पर खिन्नता,
क्रोध अनाचार बा ।
कमजोर पड़ रही अब
रिश्तों की डोर बा ।
बाप , माँ , बहन , भईया
दीखन को परिवार बा ।
अपने -अपने कमरा मा ,
अपना – अपना मोबाईल बा ।
डिनर के बखत औपचारिकता
का व्यवहार बा ।
बाद उसके फेस बुक , सगरी रैना ,
इंस्टा , व्हाट्स अप्प के मित्र बेशुमार बा ।
मेसेन्जर पर चएटिन्ग
देखो रात दिन हो रही ।
झूटे बर्तन भरे सिंक में ,
माँ अकेली धो रही ।
सुप्रभात गुड मॉर्निंग मित्रों से सतत
अखंड ऑनलाइन आचार बा
दादी नानी दादा नाना
माई बाप तो एक दम बेकार बा ।
अईसन पारिवारिक संबंध
की मृत्यु प्रतिदिन हो रही ।
आपसी रिश्तों की प्रगाढ़ता
निस दिन क्षीण हो रही ।
कमजोर पड़ रही अब
रिश्तों की डोर बा ।
हाँथ से फिसल रहे
सगरे स्नेहिल संबंध बा ।

1 Like · 1 Comment · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
Er. Sanjay Shrivastava
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
वादा तो किया था
वादा तो किया था
Ranjana Verma
बड़ा आदमी (हास्य व्यंग्य)
बड़ा आदमी (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
"संवेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
ਨਾਨਕ  ਨਾਮ  ਜਹਾਜ  ਹੈ, ਸਬ  ਲਗਨੇ  ਹੈਂ  ਪਾਰ
ਨਾਨਕ ਨਾਮ ਜਹਾਜ ਹੈ, ਸਬ ਲਗਨੇ ਹੈਂ ਪਾਰ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
Bodhisatva kastooriya
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
कर्मगति
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*Author प्रणय प्रभात*
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
💐प्रेम कौतुक-241💐
💐प्रेम कौतुक-241💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
नवरात्रि की शुभकामनाएँ। जय माता दी।
Anil Mishra Prahari
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...