Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 1 min read

*मूलांक*

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त
मूलांक
बरसती बारिश रात की
लरजती छाती हर बात पर
सहमा – सहमा सा मौसम
अनदेखी अनकही मुलाकात थी
वो घबराई सी सिमटी थी
मैं चंचल मस्त भंवर सा शरारती
फिर ऊपर से कड़कना बिजली का
जैसे टूटा कहीं पहाड़ सा

न वो बोली न मैं बोला
बेहद चुप्पी थी सालती
फिर आई मुसीबत सामने
जल का स्तर था लगा बढ़ने
चहुं और विकट अधियारा था
हाँथ को हाँथ भी अनजाना था
वो अबला नारी वक्त से हारी
मजबूरी में आकर पास मेरे यूं बोली
कुछ कीजिए ऐसे तो हम डूब जाएंगे
नाहक अपनी जान गवायेंगे
यक दम मेरा पुरुषत्व जगा
मैं बोला मत घबराएँ आप
मदद मिलेगी हमको
थोड़ा सा धैर्य कीजिए आप
मोबाईल निकाला तब मैंने
लेकिन वो भी गीला था
फिर हिम्मत करके मैंने उसको
पास के पेड़ पर चड़ा दिया
साथ साथ खुद को भी
पास की डाल पर बैठा दिया

फिर सुबह कटी जैसे तैसे
मदद मिली हम अपने अपने घर पहुंचे
ये वाकया मेरे जीवन में सच – सच गुजरा

Language: Hindi
1 Like · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
रंग भेद ना चाहिए विश्व शांति लाइए सम्मान सबका कीजिए
DrLakshman Jha Parimal
पक्की छत
पक्की छत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
😊#लघु_व्यंग्य
😊#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
दिल में है जो बात
दिल में है जो बात
Surinder blackpen
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
शेखर सिंह
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
रिश्ते-नाते गौण हैं, अर्थ खोय परिवार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...