Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 1 min read

मूर्ख बनाने की ओर ।

लग गया ताँता आज सुबह से,
मूर्ख बनाने की ओर,
हाल चाल ना लेते जो पहले,
सुबह खबरें देने लगे,
भूल रहे है सत्य का आगाह,
हँसी मजाक में फूक रहे है,
अपना समय,
व्यवहार,
आस्था ,
विश्वास,
औचित्य,
व्यक्तित्व का निखार,
तर्क वितर्क सतर्क युक्ति ,
यहाँ तक नहीं रुकते,
पहुँच जाते है कहते है मिल गई मुक्ति,
जोखिमपूर्ण कदम उठा लेंगे,
बनाने को मूर्ख दिवस,
हँसाने के बहाने ,
भाव भावनाओ को भी कुरेद देते है,
हो जाती है हृदय की छूने की बात,
अगले पल ही मूर्ख हो जाते हो आप।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
DrLakshman Jha Parimal
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कुछ न जाता सन्त का,
कुछ न जाता सन्त का,
sushil sarna
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
पैसा है मेरा यार, कभी साथ न छोड़ा।
Sanjay ' शून्य'
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
तुम मुझे सुनाओ अपनी कहानी
Sonam Puneet Dubey
एक कुंडलियां छंद-
एक कुंडलियां छंद-
Vijay kumar Pandey
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम वंदना
श्री राम वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
Rj Anand Prajapati
दोहे
दोहे
गुमनाम 'बाबा'
* बाँझ न समझो उस अबला को *
* बाँझ न समझो उस अबला को *
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
कवि रमेशराज
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
अधूरा प्रेम
अधूरा प्रेम
Mangilal 713
Loading...