Oct 3, 2016 · 1 min read

मूरत, भगवान और इंसान की

हे प्रभु,
इंसान की बनाई
मूरत है तेरी
यहाँ हर मंदिर में तेरे

जबकि
हर शख्स जमीं पर
इक नुमाइन्दा है तेरा
तेरी कारीगरी का
एक बे मिसाल नमूना है
जिसको देखू उसमें
चेहरा नजर आता है तेरा

फिर क्यों नहीं
तेरा बनाया हर शख्स
दूसरे को तेरा
अक्स है मानता
उसको पूजता
उसका कहा मानता

जिसको देखो
लड़ने पर उतारू है
हर शख्स दूसरे से यहाँ
अपने को सबसे ऊपर रख
दूसरे को नीचा है मानता

बड़े से बड़ा और
छोटे से छोटा
सबको है अपने पे गरूर
कोई नहीं है जो
अपने गिरेबां में झांकता

काश तेरे इशारे से कुछ
ऐसा गुल खिल जाये दुनिया में
प्यार मोहब्बत से
रहे तेरे बनाये लोग
तेरी बनाई इस दुनिया में

मिटे लड़ाई झगड़ा आतंक
और दूर हो कष्ट
इस दुनिया से उनके
जो भेजे गये है यहाँ तेरे द्वारा
प्रायश्चित करने
और भोगने फल अपने कर्मो का
मिले मौका उन्हें भी एक और
अपना अगला जन्म सुधारने का।।

…विनोद चड्ढा…

176 Views
You may also like:
गधा
Buddha Prakash
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H.
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
जीवन
Mahendra Narayan
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...