Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2016 · 1 min read

मूरत, भगवान और इंसान की

हे प्रभु,
इंसान की बनाई
मूरत है तेरी
यहाँ हर मंदिर में तेरे

जबकि
हर शख्स जमीं पर
इक नुमाइन्दा है तेरा
तेरी कारीगरी का
एक बे मिसाल नमूना है
जिसको देखू उसमें
चेहरा नजर आता है तेरा

फिर क्यों नहीं
तेरा बनाया हर शख्स
दूसरे को तेरा
अक्स है मानता
उसको पूजता
उसका कहा मानता

जिसको देखो
लड़ने पर उतारू है
हर शख्स दूसरे से यहाँ
अपने को सबसे ऊपर रख
दूसरे को नीचा है मानता

बड़े से बड़ा और
छोटे से छोटा
सबको है अपने पे गरूर
कोई नहीं है जो
अपने गिरेबां में झांकता

काश तेरे इशारे से कुछ
ऐसा गुल खिल जाये दुनिया में
प्यार मोहब्बत से
रहे तेरे बनाये लोग
तेरी बनाई इस दुनिया में

मिटे लड़ाई झगड़ा आतंक
और दूर हो कष्ट
इस दुनिया से उनके
जो भेजे गये है यहाँ तेरे द्वारा
प्रायश्चित करने
और भोगने फल अपने कर्मो का
मिले मौका उन्हें भी एक और
अपना अगला जन्म सुधारने का।।

…विनोद चड्ढा…

Language: Hindi
548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
जीत रही है जंग शांति की हार हो रही।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेटियां अमृत की बूंद..........
बेटियां अमृत की बूंद..........
SATPAL CHAUHAN
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
■ ये डाल-डाल, वो पात-पात। सब पंछी इक डाल के।।
■ ये डाल-डाल, वो पात-पात। सब पंछी इक डाल के।।
*प्रणय प्रभात*
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
"दिल की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
भामाशाह
भामाशाह
Dr Archana Gupta
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
sushil sarna
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
बिखरा
बिखरा
Dr.Pratibha Prakash
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...