Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA

खुद को जभी आप
मुहावरे की चाशनी में लपेट
बुरी औरत कहती हैं
बाय डिफॉल्ट स्वयं को
इस खांचाबद्ध जाति और संप्रदाय आधारित समाज व्यवस्था में
मुट्ठीभर अच्छी औरतों में गिनते हुए
गर्व गझिन होते हुए पाई जाती हैं

बुरी औरत की आपकी गिनती में तब
एक खुदमुख्तार औरत
पितृसत्ता विरोधी औरत होती है
ऐसा कर अपनी छाती चौड़ा कर बैठने वाली औरत

आपकी बुरी औरत की परिभाषा
अच्छी ही हो, सही ही हो
तब जरूरी नहीं जब आप
वर्ण सोपान के खत्ते में
ऊंचे कुल में जन्मी होती हैं
क्योंकि ऐसे परिवार परिवेश की
किसी बुरी औरत को मैंने
अपने परिवार, अपनी जाति में व्याप्त
जनेऊलीला का विरोध करते नहीं देखा है

एक दलित वर्ग की औरत
और एक दलक खित्ते की औरत
साफ़ अलग होती है
एक जैसी दिखती कुछ विपरीत स्थितियों से गुजरते हुए भी
दोनों की गति एक नहीं होती

एक दलक संप्रदाय की बुरी औरत
दलित औरतों के दोनों हिस्सों
बुरी दलित औरत और गैर बुरी दलित औरत के लिए
अभिधार्थ में बुरी औरत ही अमूमन साबित होनी चाहिए!

Language: Hindi
130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
Dr Shweta sood
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
sushil sarna
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
राजसूय यज्ञ की दान-दक्षिणा
राजसूय यज्ञ की दान-दक्षिणा
*Author प्रणय प्रभात*
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
Madhuyanka Raj
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
"सैल्यूट"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
Loading...