Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

मुहब्बत

मुहब्बत अमन व चैन-ओ-करार का
पैगाम-ऐ-गुल है “बारिश”…
गर दिल जल रहा किसी आग में तो
फिजां-ऐ-मुहब्बत नहीं है…!!

© बारिश ™

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
डाकिया डाक लाया
डाकिया डाक लाया
Paras Nath Jha
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
फासलों से
फासलों से
Dr fauzia Naseem shad
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बार -बार दिल हुस्न की ,
बार -बार दिल हुस्न की ,
sushil sarna
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
नदी
नदी
Kumar Kalhans
मेरी भी सुनो
मेरी भी सुनो
भरत कुमार सोलंकी
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
VINOD CHAUHAN
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...