Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।

गज़ल

1212…..1122….1212…..22
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
दिया जो प्यार में था वो गुलाब है कि नहीं।

तेरे लबों से, जो पी थी, वही पिला साकी,
तेरी सुराही में, वो ही शराब है कि नहीं।

जमीं से दूर कहीं, चांद पर रहेंगे हम,
तेरे ज़हन में अभी भी, वो ख्वाब है कि नहीं।

कोई न देख ले चेहरे की तेरे रानाई,
वो मलमली सा पुराना हिजाब है कि नहीं।

जिसे मैं देख के मर मिट गया था वो प्रेमी,
तुम्हारे हुस्न का वो ही शबाब है कि नहीं।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
आज अचानक आये थे
आज अचानक आये थे
Jitendra kumar
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
Ravi Prakash
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
जीवन बेहतर बनाए
जीवन बेहतर बनाए
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
** समय कीमती **
** समय कीमती **
surenderpal vaidya
"प्रेम सपन सलोना सा"
Dr. Kishan tandon kranti
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भोजपुरी गायक
भोजपुरी गायक
Shekhar Chandra Mitra
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
Loading...