Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 1 min read

कवि /मुस्कुराहट लिख दे, निद्रित प्राण पर

कवि वही जो चलता सत् किरपान पर |
प्रेम वन छा जाए द्वंदी बाण पर |
जागरण दे राष्ट्र को ‘नायक बृजेश ‘|
मुस्कुराहट लिख दे, निद्रित प्राण पर |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता|

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 468 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
बदनसीब का नसीब
बदनसीब का नसीब
Dr. Kishan tandon kranti
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बेटी को जन्मदिन की बधाई
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
*हे अष्टभुजधारी तुम्हें, मॉं बार-बार प्रणाम है (मुक्तक)*
*हे अष्टभुजधारी तुम्हें, मॉं बार-बार प्रणाम है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
💐अज्ञात के प्रति-124💐
💐अज्ञात के प्रति-124💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
केहरि बनकर दहाड़ें
केहरि बनकर दहाड़ें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
ऐ ख़ुदा इस साल कुछ नया कर दें
Keshav kishor Kumar
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
shabina. Naaz
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
Ranjana Verma
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
Loading...