Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2022 · 1 min read

मुस्कुराहटों के मूल्य

मुस्कुराए तो
मूल्य चुकाने पड़ेंगे ।
जिए तो फिर
दर्द संभालने पड़ेंगे ।
बाते सभी ये
हमने सुनी थी ।
पर मन ने इतने
न गहरे गहीं थी ।
जो कल सीख लेते
तो शायद संभलते ।
तभी मुस्कुराते
जब कीमत परखते ।
चुका जो न पाते
फिर आगे न जाते ।
न पाते अगर कुछ
तो खो भी न आते ।
बहुत मुस्कुराए
सो कीमत बड़ी है ।
कीमत चुकाने की
अब ये घड़ी है ।
सौदा ये मंहगा
बहुत ही पड़ा है ।
सभी कुछ मेरा
दांव पर ही लगा है ।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
चित्र और चरित्र
चित्र और चरित्र
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★फसल किसान की जान हिंदुस्तान की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जी लगाकर ही सदा,
जी लगाकर ही सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#यादों_का_झरोखा-
#यादों_का_झरोखा-
*Author प्रणय प्रभात*
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
दुष्यन्त 'बाबा'
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
gurudeenverma198
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
अस्तित्व पर अपने अधिकार
अस्तित्व पर अपने अधिकार
Dr fauzia Naseem shad
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
💐प्रेम कौतुक-258💐
💐प्रेम कौतुक-258💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
Loading...