Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

“मुस्कुराते चलो”

“मुस्कुराते चलो”
चार दिन की जिन्दगी ये
मुस्कुराते चलो,
दिल मिले ये जरूरी नहीं
हाथ मिलाते चलो.

2 Likes · 2 Comments · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
2708.*पूर्णिका*
2708.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं जिन्दगी में
मैं जिन्दगी में
Swami Ganganiya
क्यो नकाब लगाती
क्यो नकाब लगाती
भरत कुमार सोलंकी
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
वफ़ा की कसम देकर तू ज़िन्दगी में आई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
राज़ बता कर जाते
राज़ बता कर जाते
Monika Arora
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
स्त्री मन
स्त्री मन
Vibha Jain
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
कैसी यह मुहब्बत है
कैसी यह मुहब्बत है
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
■ कृष्ण_पक्ष
■ कृष्ण_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
???????
???????
शेखर सिंह
*बाल काले न करने के फायदे(हास्य व्यंग्य)*
*बाल काले न करने के फायदे(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
चलो कुछ नया करते हैं
चलो कुछ नया करते हैं
AMRESH KUMAR VERMA
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
सच के साथ ही जीना सीखा सच के साथ ही मरना
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
Loading...