Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

मुस्कराओ तो फूलों की तरह

मुस्कराओ तो फूलों की तरह
खिलखिलाओ तो चिड़ियों की तरह
गुनगुनाओ तो भौंरों की तरह

1 Like · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* प्रीति का भाव *
* प्रीति का भाव *
surenderpal vaidya
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
■ आज की बात...!
■ आज की बात...!
*Author प्रणय प्रभात*
"अह शब्द है मजेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
Ravi Prakash
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
Keshav kishor Kumar
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ईश्वर के नाम पत्र
ईश्वर के नाम पत्र
Indu Singh
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
हे दिनकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
Loading...