Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

मुसलसल ईमान रख

याद रख तू तेरे दस्तूर से पहचाना जाएगा!
खाली हाथ आया है, खाली हाथ जाएगा!!
बेशक कर ले तू सौ जतन,नुमाया होने के,
कमाया नही मुहब्बत-खुलूस,क्या ले जाएगा?
बाद जाने के लोग उसको ही याद करते है,
मिलेगा लोगो से प्यार, वो ही साथ जाएगा!!
मत खरीद नफरत के बाजार से यह दुश्मनी,
मुसलसल ईमान रख तभी मुसलमा कहलाएगा!!

बोधिसत्व कस्तूरीया एडवोकेट कवि पत्रकार सिकंदरा आगरा उत्तर प्रदेश -282007 मो;9412443093

Language: Hindi
99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
चोंच से सहला रहे हैं जो परों को
Shivkumar Bilagrami
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
Ms.Ankit Halke jha
मुझे छेड़ो ना इस तरह
मुझे छेड़ो ना इस तरह
Basant Bhagawan Roy
*थियोसोफी के अनुसार मृत्यु के बाद का जीवन*
*थियोसोफी के अनुसार मृत्यु के बाद का जीवन*
Ravi Prakash
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
समझा दिया है वक़्त ने
समझा दिया है वक़्त ने
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
अपूर्ण प्रश्न
अपूर्ण प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"वसन्त"
Dr. Kishan tandon kranti
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
Price less मोहब्बत 💔
Price less मोहब्बत 💔
Rohit yadav
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
Loading...