Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 1 min read

मुर्शिदे कामिल है।

हमारे तुम्हारे ख्याल मुख्तलिफ है।
अगर तुम पूरब से हो तो हम भी पश्चिम है।।

ये माना की तुम हंसी हो बहुत ही।
तो हम भी आशिकी में मुर्शिदे कामिल है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
■ आस्था के आयाम...
■ आस्था के आयाम...
*Author प्रणय प्रभात*
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़माने में बहुत लोगों से बहुत नुकसान हुआ
ज़माने में बहुत लोगों से बहुत नुकसान हुआ
शिव प्रताप लोधी
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
DrLakshman Jha Parimal
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
धरती का बेटा गया,
धरती का बेटा गया,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
We can not judge in our life ,
We can not judge in our life ,
Sakshi Tripathi
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
Loading...