Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।

गज़ल

2122/2122/2122
मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।
भूखे प्यासे जूझते हैं हर कमी से।1

कुछ करो जो गम के मारे मुस्कुराएं,
कुछ पलो को दूर होकर बेबसी से।2

क्या करेंगे ले के सूरज चांद यारो,
जिंदगी कटती रहे बस सादगी से।3

दर्द-ओ-गम देकर ही जाएं जो हमेशा,
दूर रखिए उनको अपनी जिंदगी से।4

हम फ़क़ीरों की यही दौलत रही है,
प्यार है हमको हमारी बेखुदी से।5

अपने ही खुश हो रहे थे मौत देकर,
हम तो जिंदा दोस्तों औ’र दोस्ती से।6

एक पल संभव नहीं रुक जाएं ‘प्रेमी’,
प्रेम के सुर जब निकलते बांसुरी से।7

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

23 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"किस पर लिखूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
Just try
Just try
पूर्वार्थ
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2675.*पूर्णिका*
2675.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चील .....
चील .....
sushil sarna
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
ग़ज़ल _ थोड़ा सा मुस्कुरा कर 🥰
Neelofar Khan
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्यार के मायने
प्यार के मायने
SHAMA PARVEEN
भेड़चाल
भेड़चाल
Dr fauzia Naseem shad
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
नंबर पुराना चल रहा है नई ग़ज़ल Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...