Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए

मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
हुं मैं एक कवि बस इतना सा ही जानिए
मैं लिखुंगा किसी के अन्तर्मन की वेदना
मैं लिखुंगा किसी के मौन की चेतना
मुझ को क्यों तुम किसी एक विषय में हो बांधते
मुझ को क्यों तुम किसी एक पथ का ही पथिक हो मानते
मैं नदी सा भी हूं ओर मुझे में कहीं एक है झरना भी
मैं कहीं हूं तीव्र धारा ओर कहीं हूं डेल्टा
मुझ में ना जाने क्यों तुम ढूंढते हो जाने क्या
मैं जो हूं वो ही मुझ को क्यों नहीं तुम मानते
उम्मीद का एक पुलिंदा मुझ से हो क्यों बांधते

Language: Hindi
71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
23/63.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/63.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ नाकारों से क्या लगाव?
■ नाकारों से क्या लगाव?
*Author प्रणय प्रभात*
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
-- कटते पेड़ --
-- कटते पेड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
*श्री रामप्रकाश सर्राफ*
Ravi Prakash
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
छिपे दुश्मन
छिपे दुश्मन
Dr. Rajeev Jain
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
सीने पर थीं पुस्तकें, नैना रंग हजार।
Suryakant Dwivedi
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
15🌸बस तू 🌸
15🌸बस तू 🌸
Mahima shukla
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"दुःख से आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...