Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 1 min read

मुझ को अब स्वीकार नहीं

जाने क्यों तुम रूठे हो मुझसे
ऐसा तो पहली बार नहीं।
बात बात पर  तेरा चिल्लाना
मुझ को अब स्वीकार नहीं।।
बोल सकती हूं मैं भी ऊंचा
क्या मेरे पास ज़ुबान नहीं।
फिर मुझसे तू मत कहना
करती तू सम्मान नहीं।।
झुकती हूं तो ,संस्कार है मेरे
मैं भी उठा सकती हूं ‌हाथ।
बच्चों के कारण ,मैं बंधी हूं
छोड़ सकती हूं पर में साथ।।
कितना नीचे तुम गिरोगे
मुझ को नीचे गिराने के लिए।
कितनी रखोगे अग्नि परीक्षा
मुझे‌ तुम आजमाने के लिए।।
चौखट जिस दिन पार कर ली
ढूंढोगे दिन रैन मुझे।
बंधन काट, जो उड मैं गयी
आयेगी न फिर‌ चैन तुझे।
सुरिंदर कौर 

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
श्री कृष्ण जन्माष्टमी
Neeraj Agarwal
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
दुनिया एक दुष्चक्र है । आप जहाँ से शुरू कर रहे हैं आप आखिर म
पूर्वार्थ
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
तपन ने सबको छुआ है / गर्मी का नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
21-- 🌸 और वह? 🌸
21-- 🌸 और वह? 🌸
Mahima shukla
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
The_dk_poetry
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
संवेदना अभी भी जीवित है
संवेदना अभी भी जीवित है
Neena Kathuria
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुरखों की याद🙏🙏
पुरखों की याद🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
Shekhar Chandra Mitra
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
"विनती बारम्बार"
Dr. Kishan tandon kranti
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
gurudeenverma198
Loading...