Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

मुझे मेरी सोच ने मारा

नही जख़्मो से हूँ घायल, मुझे मेरी सोच ने मारा ||

शिकायत है मुझे दिन से
जो की हर रोज आता है
अंधेरे मे जो था खोया
उसको भी उठाता है
किसी का चूल्हा जलता हो
मेरी चमड़ी जलाता है |
कोई तप कर भी सोया है,
कोई सोकर थका हारा ||

नही जख़्मो से हूँ घायल, मुझे मेरी सोच ने मारा ||

मै जन्मो का प्यासा हूँ
नही पर प्यास पानी की
ना रह जाए अधूरी कसर
कोई बहकी जवानी की
उतना बदनाम हो जाऊं
वो नायिका कहानी की|
सागर मे नहाता हूँ
मुझे गंगाजल लगे खारा ||

नही जख़्मो से हूँ घायल, मुझे मेरी सोच ने मारा ||

Language: Hindi
Tag: कविता
401 Views
You may also like:
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
बालीवुड का बहिष्कार क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
तीरगी से निबाह करते रहे
Anis Shah
जो इश्क मुकम्मल करते हैं
कवि दीपक बवेजा
आओ तुम
sangeeta beniwal
*अग्रसेन के वंशज हम (गीत)*
Ravi Prakash
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
🔉🎶क्या आप भी हमें गुनगुनाते हो?🎶🔉
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
देवर्षि नारद ......जयंती विशेष
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मुहब्बत और जंग
shabina. Naaz
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
मेरा भारत मेरा तिरंगा
Ram Krishan Rastogi
यहां उनका भी दिल जोड़ दो/yahan unka bhi dil jod...
Shivraj Anand
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जग
AMRESH KUMAR VERMA
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
“कलम”
Gaurav Sharma
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
🙏मॉं कात्यायनी🙏
पंकज कुमार कर्ण
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
एक दिया जलाये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...