Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-172💐

मुझे तुम अपना नसीब कहो या मैं कहूँ
चाँद भी रोशन है आफ़ताब से ही।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
23 Views
You may also like:
गुरु की पूछो ना जात!
गुरु की पूछो ना जात!
जय लगन कुमार हैप्पी
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पी रहा हूं मै नजरो से
पी रहा हूं मै नजरो से
Ram Krishan Rastogi
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Writing Challenge- आईना (Mirror)
Sahityapedia
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
सुरज से सीखों
सुरज से सीखों
Anamika Singh
कल आज कल
कल आज कल
Satish Srijan
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली के कुण्डलिया
होली के कुण्डलिया
Vijay kumar Pandey
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
#सबक जिंदगी से #
#सबक जिंदगी से #
Ram Babu Mandal
*तिल के लड्‌डू-मूँगफली, पापड़-खिचड़ी की धूम मची (मुक्तक)*
*तिल के लड्‌डू-मूँगफली, पापड़-खिचड़ी की धूम मची (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लगे मौत दिलरुबा है।
लगे मौत दिलरुबा है।
Taj Mohammad
उसकी करो उपासना, रँगो उसी के रंग।
उसकी करो उपासना, रँगो उसी के रंग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की सांझ
जीवन की सांझ
Dr. Girish Chandra Agarwal
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
आज भी ज़िंदगी से डरते हैं
आज भी ज़िंदगी से डरते हैं
Dr fauzia Naseem shad
आस्तीक -भाग पांच
आस्तीक -भाग पांच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब...
✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब...
'अशांत' शेखर
■ दोहे फागुन के...
■ दोहे फागुन के...
*Author प्रणय प्रभात*
जैसी करनी वैसी भरनी
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
💎🌴अब न उम्मीद बची है न इन्तजार बचा है🌴💎
💎🌴अब न उम्मीद बची है न इन्तजार बचा है🌴💎
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कवि कर्म
कवि कर्म
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
पप्पू कौन?
पप्पू कौन?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...