Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का

मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
पहले दिन, फिर हफ्ते ,फिर महीने
और अब ये साल खत्म होने का,
मुझे इंतजार है इंतजार ………….
जीवन का हर एक दिन वृक्षों के पात
की तरह कम होता जा रहा है
जिंदगी पतझड़ सी हो रही है
और मुझे ख्याल है बाहर होने का।
मुझे इंतजार है इंतजार ………..
कैद हो गई हूं मैं अपने ही जाल में ,
एक खूबसूरत ख्वाब के पूरे हुए ख्याल में
पर यह कैसा ख्वाब जो पूरा होते ही डस गया
और मेरे जीवन में इंतजार का झोला भर गया
अब करती हूं इबादत यह झोला खाली होने का
मुझे इंतजार है इंतजार…………..
बेरंग सी जिंदगी है बेढंग सा मिजाज है,
अब न जाने यह कैसा इंतजार है,
सब कुछ होते हुए भी एहसास है अधूरे होने का,
बस इसी अधूरे को ही इंतजार है पूरा होने का।
और मुझे तो इंतजार है बस ……….

Language: Hindi
1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#सच्ची_घटना-
#सच्ची_घटना-
*प्रणय प्रभात*
शायरी
शायरी
गुमनाम 'बाबा'
खत
खत
Punam Pande
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
जय अम्बे
जय अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता
पिता
Shweta Soni
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
चलो कुछ दूर तलक चलते हैं
Bodhisatva kastooriya
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
Loading...