Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2016 · 1 min read

मुखौटा

नोंच लेती गर मुखौटा चेहरे पे होता
उसने पूरी शख्सियत पे पर्दा किया था

भारीभरकम शब्दो मे झूठ भांप मै लेती
पर उसने खामोशी से इजहार किया था

हर जख्म कबूल होता,हर दर्द सह मै लेती
पर उसने मेरे भावो का तिरस्कार किया था

क्या तमाशे है जहां के देख लो “प्रीति”
चीर गया दिल को ,जिसे दिल ये दिया था

Language: Hindi
738 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माना के तुम ने पा लिया
माना के तुम ने पा लिया
shabina. Naaz
नियत
नियत
Shutisha Rajput
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
आया फागुन (कुंडलिया)
आया फागुन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
■ सोच लेना...
■ सोच लेना...
*Author प्रणय प्रभात*
ममता
ममता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-509💐
💐प्रेम कौतुक-509💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
विश्वास
विश्वास
विजय कुमार अग्रवाल
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
"बेकसूर"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
Kumar lalit
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
इश्क में ज़िंदगी
इश्क में ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
Loading...