Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2023 · 1 min read

मुक्ती

ख्वाबो में रहने वाली मेरी जान हो तुम। दुनिया से बेखबर मेरी ईमान हो तुम।
चन्द लम्हे भले दूर हुए थे हम, जुबां अगर खोल दूं क़माल हो तुम।। तुम तकदीर हो हमारी ख़ुदा की कसम। जान हो हमारी प्यार कि मिशाल हो तुम। रम्भा भले रिंझाई हो विश्वामित्र को फर्क नहीं,
परियों से खुबसूरत हमारे ख्वाब हो तुम।।
इत्तफाक कहुं मुझे मिल गए हो तुम । ज़िन्दगी से प्यारे मेरे दिल के पास हो तुम।
ये क्या कम है, खुली बहार हो तुम।
इस नश्वर संसार में मेरे अरमान हो तुम।।
स्वरचित:-सुशील कुमार सिंह “प्रभात”

Language: Hindi
1 Like · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Birthday wish
Birthday wish
Ankita Patel
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*मंदिर यात्रा वृत्तांत*
*मंदिर यात्रा वृत्तांत*
Ravi Prakash
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
गुरु महादेव रमेश गुरु है,
Satish Srijan
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
कृष्णकांत गुर्जर
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
Dr Archana Gupta
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
💐अज्ञात के प्रति-56💐
💐अज्ञात के प्रति-56💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
एकांत मन
एकांत मन
TARAN VERMA
Loading...