Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

मुक्ति

मुक्ति
ढ़लती उम्र के पढ़ाव पर,
अपने लिए जीना सीख चुके हम।
सुख-दुख से परे होकर,
ईश्वरीय स्वरूप को पाकर
अब सब माया-मोह से मुक्ति की कामना है।
अपने आप को अब पहचाना है ,
सबको प्यार से अपनाना है।
इन्सान, प्रकृति, बिखरे खिलौने,
रिश्तों के अच्छे ,सच्चे रंग रूप ,
सबसे सीखा है बहुत सारा ,
जो कुछ पाया है,सीखा है ।
वही देकर जाना है ,
यही सत्य पुराना है।
डॉअमृता शुक्ला

Language: Hindi
1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
हम सनातन वाले हैं
हम सनातन वाले हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
Embers Of Regret
Embers Of Regret
Vedha Singh
दर्द आंखों से
दर्द आंखों से
Dr fauzia Naseem shad
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
दीवाली की रात आयी
दीवाली की रात आयी
Sarfaraz Ahmed Aasee
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
राम का चिंतन
राम का चिंतन
Shashi Mahajan
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
*जाता सूरज शाम का, आता प्रातः काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
जीना सीखा
जीना सीखा
VINOD CHAUHAN
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
Harminder Kaur
Loading...