Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2023 · 6 min read

मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].

मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
विधान – 25 मात्रा, 13,12 पर यति,
विषम चरण में यति 12
चरणान्त में वाचिक भार 22 या गागा l
कुल चार चरण, क्रमागत दो-दो चरण तुकांत l

सरसता- दोहे के सम चरणों के पदांत को २१ की जगह २२ करने से एक मात्रा बढ़कर यह छंद सहज बन जाता है ,|
========================

अपना हित ही देखना , नहीं बुरीं हैं बातें |
पर ऐसा मत कीजिए ,चलें किसी पर लातें ||
शोर मचाने से नहीं , कभी बरसता पानी |
रटत- रटत हरि नाम भी , तोता बना न ज्ञानी ||

एक अनीति कर गई , रावण की बदनामी |
करते जो ताजिंदगी , क्या‌ समझेगें कामी |
ज़ख्म कुरेदे जग सदा , देकर चोट निशानी |
आरोपों को थोपता , करता है नादानी ||

छाया के सँग फल मिलें, और दाम भी मिलते |
पर पत्थर मत मारिए , आम पेड़ जब लगते ||
हम समझे हालात को , हल करने की ठानी |
हाथ जलाकर आ गए , कड़वा पाया पानी ||

मिलती रहती हैं यहाँ , मतलब की सब यारी |
अजमाकर भी देख लो, दिल में चुभे कटारी ||
देखो इस संसार में , तरह-तरह के‌‌ रोगी |
सबके अपने योग हैं , दाँव पेंच उपयोगी ||

ज्ञानी अब सब है यहाँ , कौन करे नादानी |
नहीं मुफ़्त में बाँटिए , अपना अनुभव पानी ||
माल बाँटिए मुफ़्त में , कमी निकालें खोजी |
कचरा जाओ बेचनें , चल जाती है रोजी ||

मुक्तामणि मुक्तक 13-12
,
संकट से हो सामना , एक परीक्षा जानो |
अनुभव मिलता‌ है नया , कथ्य सत्य यह मानो |
साहस‌ सँग पुरुषार्थ से , संकट‌‌ सब टल जाते –
अपने अंदर‌ झांककर‌, अपना बल. पहचानो |

एक धनुष की‌ टूट से , मान भँग कई मानो |
रावण ,राजा,वीर सब, विश्वमित्र ऋषि जानो |
रचा स्वयंवर मानिए ,परम बम्ह की माया ~
मनुज रूप‌‌ में ईश की , लीला को पहचानो |

देख रहे कविगण जगत,अपना लिखा पढ़ाते |
दूजों का जब सामने , इधर-उधर हो जाते |
पोस्ट पटकते थोपते , दौड़‌ लगाते भाई ~
मिलती है जब टिप्पणी , तब ही बापिस आते |

शत प्रतिशत टीकाकरण ,बात सभी‌ यह मानो |
कोरोना से जंग का , एक भाग यह जानो |
धन्यबाद सरकार का , अपने दिल से कीजे ~
लहर तीसरी दूर हो , समय आ़ज पहचानो |

जो कोरोना से मरे , वह कहते महामारी |
बीमारी बतला रहे , बचने बाले भारी |
अब तक जो बचते रहे ,वह ही भाषण देते –
मास्क बांध घर में रहो , नौटंकी सरकारी |

प्रलयकाल तूफान सा‌ , कोरोना है आया |
त्राहमाम है विश्व में , सबको यहाँ रुलाया |
साहस के अब तेज से, सूरज नया उगाओं ~
गहन निराशा दूर हो , हटे अँधेरी छाया |

कोरोना की मार का , कष्ट निकट था आया |
बहुत मिली सद्भावना , सम्बल सबसे पाया ||
साहस को खोया नहीं , नाम नहीं प्रभु भूला ~
जिसके कारण अब हुई , आज निरोगी काया |

हाल सभी यह देखते , साथी लगे बिछड़ने |
आसपास के खास भी, रिश्ते लगे सिकुड़ने |
फिर भी इस संसार में , रहना हमको यारो ~
हिम्मत की बुनियाद से, अवसर सभी पकड़ने |

रोद्र रूप धारण करे , हम दुश्मन के‌ बास्ते |
पैर तले हम फूल है , हर सैनिक के बास्ते |
जज़्बात नहीं पूँछना , सुभा देश के लिए ~
गर्दन अपनी कटा दे , मां भारती के बास्ते |

एक गिलहरी राम जी , अपलक निहारते है |
बालू डाले सेतु में , तब ही पुकारते है |
योगदान को देखकर, भाव समझ उपकारी –
उसे चढ़ाकर हाथ पर , जीवन सुधारते है |

काज राम का कर रही , एक गिलहरी भोली |
रेत देह की सेतु में , करती रहती घोली |
पास बुलाया राम ने , बोले तू उपकारी –
योग तुम्हारा भी लिखा , प्रभु की निकली बोली |

(कुछ मुस्कराने के लिए )

सौंठ पुदीना लोंग सँग , अजबाइन भी डाली |
नींबू रस की बूँद से , नाक भरी है खाली |
अंतिम बचा उपाय है , यह भी‌ मैं अजमाता-
फ्राई करना नाक है , तड़का देकर आली ||

यहाँ धरा के‌ साथ में , अम्बर निहारता हूँ |
हालात देखकर सभी , रब‌ को पुकारता हूँ |
दिख रही कयामत में , साहस की डोरी‌ से –
तन्हाई आराधना , से खुद‌ सँवारता हूँ |

वहाँ मकानों पर दिखे , जो जले उजाले है |
दीनों के मुख से छिने , वह लगे निबाले है |
दिखती चेहरे पर चमक, जितनी भी तुम मानो-
उतने ही अंदर सुनो , वह दिल के काले है |

कवि कुल की है भूमिका , ऐसी कविता बोले |
साहस का‌ संचार रहे , जन-जन का मन डोले |
जहाँ निरासा देख लें , बिखराए मुस्कानें ~
बीमारी भी दूर हो , नेह सभी पर खोले |

देते है बलि प्राण की , मेरे वीर सिपाही |
रखें सुरक्षित सीमाएं, दिखे तिरंगा शाही |
जहाँ देश में हो युवा, जज़्बे से बलिदानी-
वहाँ राष्ट्र को जानिए ,है विकास का राही

बली उसी को मानिए , क्षमा हृदय में धारे |
पर सेवा उपकार में , जीवन सदा गुजारे |
महाबली हनुमान है , जीवन उनका देखो ~
सबके संकट टालते , जो भी उन्हें पुकारे |

झाडू देकर हाथ में , पत्नी करे इशारा |
घर बैठे कुछ कीजिए , बनता फर्ज तुम्हारा |
इस कोरोना काल ने, दिन भी क्या दिखलाया~
पोंछा बाला बन गया ,घर में‌ पति बेचारा |😊🙏

मै आटा को गूँथता , जब भी पके रसोई |
पत्नी रोटी सेंकती , मैं भी बेलूँ लोई |
हम पत्नी के साथ में , काम न समझें ओछा ~
पोंछा तक भी मारकर ,कमी न रखता कोई |😊🙏

=============================
विषय – राखी

राखी का त्यौहार है , रिश्तों की नव लोरी |
रेशम धागे प्रीति की , पक्की करते डोरी ||
राखी जिसने बांधकर , बहिना को पहचाना |
बहिना ने शुभकामना , मन से गाया गाना ||

भाई बहिन न भिन्न है , राखी कहती मानो |
एक सूत्र के छोर है , बंधन इनका जानो ||
पावन राखी जानिए , रिश्तों की मजबूती |
भ्रात बहिन की डोर यह , आसमान को छूती ||

सजी कलाई कह रही , अनुपम भाव सुहाना |
भैया का मंगल सदा , प्रभुवर आप निभाना ||
जुड़ा बहिन से भ्रात है ,कहते राखी धागे |
सब मंगल भी साथ है , समझो इ‌सके आगे ||

रक्षाबंधन निकट हो , यदि कारण वश दूरी |
दोनो करते याद . है , रहती है मजबूरी ||
राखी धागा नेह का , इसकी शान निराली |
करता गान सुभाष है , पावन यह उजयाली ||

©सुभाष सिंघई
एम•ए• हिंदी‌ साहित्य , दर्शन शास्त्र
जतारा (टीकमगढ)म०प्र०

============

मुक्तामणि कुंडल
हिंदी में अनेक छंद हैं , और गेयता के आधार पर नए छंद भी सृजित हो जाते हैं , कुछ विद्वान जितना पढ़े हैं , उससे आगे कुछ स्वीकार ही नहीं करते हैं, प्रलाप विवाद के अखाड़े में ताल ठोकने‌ लगते हैं , खैर इस विषय को‌ यहाँ छोड़ते हैं
यहाँ हम चर्चा कर रहे है , मुक्तामणि छंद से आधारित मुक्तामणि कुंडल की | कुंडल कान में पहनने बाला एक गोल आकृति का आभूषण है , यह आकृति जहाँ से प्रारंभ होती है , वहीं पर आकर समाप्त होती है
मुक्तामणि कुंडल की शैली , कुंडलिया , कुंडलिनी से‌‌ ली गई है
विधान मुक्तामणि छंद का व शैली कुंडलिया कुंडलिनी से है
======================
मुक्तामणि छंद –
गान धवलता से नहीं , होता है उजयाला |
बदबू कचरा ढ़ेर हो , क्या कर देगा ताला ||

(इस छंद में अधोलिखित सृजन से मुक्तामणि कुंडल बन जाएगा )
👇
क्या कर देगा ताला , चाहते पूर्ण सफलता |
दूर हटाना गंदगी , पाएं गान धवलता ||
====================
{इसी तरह नीचे लिखा सृजन मुक्तामणि छंद एव मुक्तामणि कुंडल समझिए ) मुक्तामणि कुंडल में छंद का चौथा चरण ही पांचवा , (१२ मात्रा) रहेगा व आगे छटवाँ १३ मात्रा का हो जाएगा , पर सातवाँ , आठवां अपने विधान १३-१२-पर रहेगा |तथा जिस चौकल शब्द से प्रारंभ किया था , उसी चौकल शब्द से समापन होगा | यह कुंडल चौकल से ही प्रारंभ करना होगा क्योकि इसमें चरणांत २२ मात्रिक होता है
=====================
अपना गाकर गान जो, अपनी बाजू ठोके |
उनको तोता मानिए , कौन उसे क्यो रोके ||
+👇
कौन उसे क्यो रोके, पालकर झूठा सपना |
विषधर बनते दर्प के, घात करें खुद अपना ||
————————-
रखता जीवन में सही , जो‌ भी नेक इरादा |
उनका भी ईश्वर सदा , पूरा करता वादा ||
+👇
पूरा करता वादा , सत्य सुभाष. अब कहता |
मिली सफलता जानिए, जो जीवन शुचि रखता ||
———————–
भोले ऊपर से दिखे , चालाकी हो अंदर |
क्या कर बैठे कब कहाँ , समझो उनको बंदर ||
+👇
समझों उनको बंदर , डाल से चीं चीं बोलें |
अपना ही हित साधता, बनता जग‌ में भोले ||
————————
कागा कपटी बोलता , हमें मोर ही जानो |
काँव – काँव करता रहे , कहे गीत ही मानो ||
+👇
कहे गीत ही मानो , लहराकर एक धागा ||
कहता रस्सी जानिए , धोखा‌ देता कागा ||
——————-
माली देखो बाग का , नेह‌ सभी से रखता |
फूलों की माला बने , उपवन पूरा हँसता ||
+👇
उपवन पूरा हँसता , देखिए बजती ताली |
बंदन होता बाग का , हर्षित रहता माली ||
————
मुख में भरकर गालियाँ, जो भी नभ में थूके |
खुद के मुख पर लोटता , कर्म यहाँ पर चूके ||
+👇
कर्म यहाँ पर चूके, लगाकर आगी सुख में |
अमृत को तज आदमी,रखता विष को मुख में ||
————––
©सुभाष सिंघई
एम•ए• हिंदी‌ साहित्य , दर्शन शास्त्र
जतारा (टीकमगढ)म०प्र०
=========

Language: Hindi
161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
"भक्त नरहरि सोनार"
Pravesh Shinde
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
जब तक जरूरत अधूरी रहती है....,
कवि दीपक बवेजा
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जोमाटो वाले अंकल
जोमाटो वाले अंकल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
सुंदर नयन सुन बिन अंजन,
Satish Srijan
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
Dr fauzia Naseem shad
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
ruby kumari
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
"हंस"
Dr. Kishan tandon kranti
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
Loading...