Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक

हमारी प्यास का ये अब खुला समर्पण है
हमारे पास था जो सब तुम्हीं को अर्पण है
हमारी आँख में जो बूँद झिलमिलाई है
तुम्हारे प्रेम का ये आँसुओं से तर्पण है

Language: Hindi
259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
Mr.Aksharjeet
"अपेक्षाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
*गूॅंजती जयकार से मॉं, यह धरा-आकाश है (मुक्तक)*
*गूॅंजती जयकार से मॉं, यह धरा-आकाश है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
#मौसनी_मसखरी
#मौसनी_मसखरी
*Author प्रणय प्रभात*
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
हास्य व्यंग्य
हास्य व्यंग्य
प्रीतम श्रावस्तवी
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
Loading...