Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

निशाने पर सदा बिजली के रहता आशियाना है,
ख़ुशी की ख़ुदकुशी का भी निशां दिल में पुराना है।
खरीदा हसरतों को बेच कर ख्वाबों की कीमत पर,
हमारे पास बस यारों, मुहब्बत का खज़ाना है।

दीपशिखा सागर-

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 1503 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
■ कथ्य के साथ कविता (इससे अच्छा क्या)
*प्रणय प्रभात*
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
Ravi Prakash
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
पत्थर दिल समझा नहीं,
पत्थर दिल समझा नहीं,
sushil sarna
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
शिक्षा
शिक्षा
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...