Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक
१.घूंघट ओढ़े लाज का, करती है सब काम।
सबके सुख-दुख में लगी , कहॉं उसे आराम।।
अपने सपनों को मिटा,साधे घर संसार –
नारी तू नारायणी, इस जग का अभिराम।।

२,शर्म आज सब त्याग कर , भूले सब संस्कार ।
रंग रूप बदला हुआ , बदला अब संसार।।
भाव-हीन मानुष बना, प्रेम हृदय से रिक्त _
दॉंवपेंच के खेल में, छूटे घर परिवार।।

योगमाया शर्मा
कोटा राजस्थान

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
अंधेरा छाया
अंधेरा छाया
Neeraj Mishra " नीर "
पके फलों के रूपों को देखें
पके फलों के रूपों को देखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
Subhash Singhai
कल को छोड़कर
कल को छोड़कर
Meera Thakur
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
"Always and Forever."
Manisha Manjari
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
Monika Arora
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
आँखों का कोना,
आँखों का कोना,
goutam shaw
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...