Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक
जिसको था मैने चाहा दूर जाने लगा वो,
रिश्ते थे जो भी प्यार के भुलाने लगा वो l
अपना सा गैर कर दिया है उसने इस कदर,
अपने ही राज दिल में छुपाने लगा है वो ll

जख्मों की आग से ही वो मुझको जला रहा,
प्याले में भर के आंसू वो मुझको पिला रहा l
ना प्यार से देखा करे वो मुझको आजकल,
ना जाने किस बात का उसको गिला रहा ll

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
Ravi Prakash
बदला सा व्यवहार
बदला सा व्यवहार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
रिश्तें - नाते में मानव जिवन
Anil chobisa
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दरारें छुपाने में नाकाम
दरारें छुपाने में नाकाम
*Author प्रणय प्रभात*
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
Loading...