Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
May 11, 2022 · 1 min read

मुक्तक(मंच)

1
ज़रा सा देने मुझे मान तुम चले आओ
करो ये आखिरी अहसान तुम चले आओ
धड़कना ही नहीं चाहे ये दिल तुम्हारे बिन
चली न जाये कहीं जान तुम चले आओ

2
गगन के चाँद सितारों में ही रही डूबी
मैं जागती हुई सपनों में ही रही डूबी
कोई तो कहता है दीवाना कोई तो पागल
यूँ रात दिन तेरी यादों में ही रही डूबी

3
लो हमने नाम तेरे अपनी ज़िन्दगी कर दी
तेरी खुशी को ही बस अपनी भी खुशी कर दी
खुदा की करते इबादत हैं हम यहां जैसे
उसी तरह से मुहब्बत भी बन्दगी कर दी

4
रखी है ओढ़नी सिर पर बुजुर्गों ने दुआओं की।
हमें छू भी सकें आकर, न हिम्मत है बलाओं की।
हमारी ज़िन्दगी में ये खड़े रहते हैं बरगद से,
न चिंता मेघ की हमको न ही तपती हवाओं की।।
5

दुआओं का दीप है जलाती, दुखों के तम से बचाती है माँ
नज़र का टीका लगा लगा कर, बुरी बलायें भगाती है माँ
सृजन करे सृष्टि का जगत में नहीं कोई भी है माँ केजैसा
बिना बताये ही बात दिल की हमारी सब जान जाती है माँ

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

1 Like · 90 Views
You may also like:
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
संघर्ष
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
Loading...