Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 1 min read

मुक्तक(मंच)

1
ज़रा सा देने मुझे मान तुम चले आओ
करो ये आखिरी अहसान तुम चले आओ
धड़कना ही नहीं चाहे ये दिल तुम्हारे बिन
चली न जाये कहीं जान तुम चले आओ

2
गगन के चाँद सितारों में ही रही डूबी
मैं जागती हुई सपनों में ही रही डूबी
कोई तो कहता है दीवाना कोई तो पागल
यूँ रात दिन तेरी यादों में ही रही डूबी

3
लो हमने नाम तेरे अपनी ज़िन्दगी कर दी
तेरी खुशी को ही बस अपनी भी खुशी कर दी
खुदा की करते इबादत हैं हम यहां जैसे
उसी तरह से मुहब्बत भी बन्दगी कर दी

4
रखी है ओढ़नी सिर पर बुजुर्गों ने दुआओं की।
हमें छू भी सकें आकर, न हिम्मत है बलाओं की।
हमारी ज़िन्दगी में ये खड़े रहते हैं बरगद से,
न चिंता मेघ की हमको न ही तपती हवाओं की।।
5

दुआओं का दीप है जलाती, दुखों के तम से बचाती है माँ
नज़र का टीका लगा लगा कर, बुरी बलायें भगाती है माँ
सृजन करे सृष्टि का जगत में नहीं कोई भी है माँ केजैसा
बिना बताये ही बात दिल की हमारी सब जान जाती है माँ

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

Language: Hindi
3 Likes · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
मजदूरीन
मजदूरीन
Shekhar Chandra Mitra
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिनाका
पिनाका
Utkarsh Dubey “Kokil”
हम पर ही नहीं
हम पर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
Neeraj Agarwal
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
VINOD CHAUHAN
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
बड़े गौर से....
बड़े गौर से....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
"कुछ पन्नों में तुम हो ये सच है फिर भी।
*Author प्रणय प्रभात*
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
मोबाईल की लत
मोबाईल की लत
शांतिलाल सोनी
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
Loading...