Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

प्रथम शिक्षक

ज्ञान के रोशन सितारे वो करे
साख नैतिकता सुज्ञानी ही धरे
पाठ स्कूलों में बड़ा चाहे पढ़े
माँ प्रथम शिक्षक गुण शिशु में’भरे।

Language: Hindi
286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sharda Madra
View all
You may also like:
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
शुकराना
शुकराना
Shivkumar Bilagrami
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
नियम, मर्यादा
नियम, मर्यादा
DrLakshman Jha Parimal
दिल से हमारे
दिल से हमारे
Dr fauzia Naseem shad
शक
शक
Paras Nath Jha
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
विपक्ष ने
विपक्ष ने
*Author प्रणय प्रभात*
सारा शहर अजनबी हो गया
सारा शहर अजनबी हो गया
Surinder blackpen
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
Loading...