Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2021 · 1 min read

मुक्तक

शीर्षक–श्याम
——————
——————-
मुरली हर वक्त बजाते
————————-

Language: Hindi
151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
दिल लगाया है जहाॅं दिमाग न लगाया कर
Manoj Mahato
मैं  ज़्यादा  बोलती  हूँ  तुम भड़क जाते हो !
मैं ज़्यादा बोलती हूँ तुम भड़क जाते हो !
Neelofar Khan
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
जनहित (लघुकथा)
जनहित (लघुकथा)
Ravi Prakash
"गुलजार"
Dr. Kishan tandon kranti
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
What can you do
What can you do
VINOD CHAUHAN
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
जिसके पास
जिसके पास "ग़ैरत" नाम की कोई चीज़ नहीं, उन्हें "ज़लील" होने का
*प्रणय प्रभात*
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
तुम रट गये  जुबां पे,
तुम रट गये जुबां पे,
Satish Srijan
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
3135.*पूर्णिका*
3135.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...