Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

तदबीर इक सोना

धरो मत हाथ पर यूं हाथ, है तदबीर इक सोना
मलोगे हाथ फिर तुम ही, रहेगा व्यर्थ का रोना
करो तुम कर्म साहस से,बनो कर्मठ अरे मानव
मिलेगा फल तुम्हें मीठा, दुखों के बीज मत बोना।

Language: Hindi
340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sharda Madra
View all
You may also like:
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
प्यार-दिल की आवाज़
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
Ms.Ankit Halke jha
किस्मत भी न जाने क्यों...
किस्मत भी न जाने क्यों...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"हस्ताक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
2883.*पूर्णिका*
2883.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तारीखें पड़ती रहीं, हुए दशक बर्बाद (कुंडलिया)
तारीखें पड़ती रहीं, हुए दशक बर्बाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मत पूछो हमसे हिज्र की हर रात हमने गुजारी कैसे है..!
मत पूछो हमसे हिज्र की हर रात हमने गुजारी कैसे है..!
सुषमा मलिक "अदब"
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
गणतंत्र पर्व
गणतंत्र पर्व
Satish Srijan
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
'फौजी होना आसान नहीं होता
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
shabina. Naaz
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शायर अपनी महबूबा से
शायर अपनी महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
#रिसर्च
#रिसर्च
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*क्या देखते हो*
*क्या देखते हो*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज भी ढूंढती नज़र उसको
आज भी ढूंढती नज़र उसको
Dr fauzia Naseem shad
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Writing Challenge- जानवर (Animal)
Sahityapedia
💐अज्ञात के प्रति-86💐
💐अज्ञात के प्रति-86💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
Loading...