Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

प्रणय में इम्तिहानों का सदा ही दौर चलता है,
सदा ही डूब दिल बस आग के दरिया निकलता है।
यही हँस कर कहा है आबलों ने पैर के हमसे,
मुहब्बत में कभी कोई, कहो क्या हाथ मलता है।

Language: Hindi
1 Comment · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-424💐
💐प्रेम कौतुक-424💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
3075.*पूर्णिका*
3075.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
खत
खत
Punam Pande
*कुंडलिया छंद*
*कुंडलिया छंद*
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
"अन्दर ही अन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
सबका नपा-तुला है जीवन, सिर्फ नौकरी प्यारी( मुक्तक )
सबका नपा-तुला है जीवन, सिर्फ नौकरी प्यारी( मुक्तक )
Ravi Prakash
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"एक शोर है"
Lohit Tamta
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
बेरोजगारी
बेरोजगारी
पंकज कुमार कर्ण
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
Loading...