Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2019 · 1 min read

मुक्तक

कभी कभी लगता है कह दूँ पुर्दिल, समय लगेगा जाने में
कुछ सांसे अब भी अटकी हुई है, जीवन के खाली खाने में।

कभी-कभी दिल कहता है कि, मैं वही हूँ बंसीधर की बंसी
तुम अधरों पे धरलो मुझको मैं तो प्रेम की गंगा बन बरसी !
***
…सिद्धार्थ

Language: Hindi
1 Like · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक तरफा दोस्ती की कीमत
एक तरफा दोस्ती की कीमत
SHAMA PARVEEN
जिंदा है हम
जिंदा है हम
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
#स्पष्टीकरण-
#स्पष्टीकरण-
*प्रणय प्रभात*
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
करुण पुकार
करुण पुकार
Pushpa Tiwari
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
Loading...