Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

मुक्तक

जब तेरी याद आती है ,
मैं हर गम भूल जाता हूँ .
ऐ दोस्त बड़ा खूबसूरत है शहर तेरा ,
मैं यहाँ हर रोज आता हूँ .
कहता है सचिन तुम भी कभी आओ मेरे शहर में,
दीवानगी भूल जाओगे अपने शहर से।

– सचिन यादव

Language: Hindi
444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समर्पण.....
समर्पण.....
sushil sarna
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
💐प्रेम कौतुक-354💐
💐प्रेम कौतुक-354💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
2683.*पूर्णिका*
2683.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सच
सच
Neeraj Agarwal
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
■ मेरे अपने संस्मरण
■ मेरे अपने संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
पूर्वार्थ
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
जी चाहता है रूठ जाऊँ मैं खुद से..
शोभा कुमारी
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
Ranjana Verma
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...