Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2016 · 1 min read

मुक्तक: हर सुबह एक नई आस लिए होती है:- जितेंद्रकमलआनंद( १३२)

मुक्तक ::—
——++ हर सुबह एक नई आस लिए होती है
दोपहर एक अमिट प्यास लिए होती है
डूब जाता हूँ याद की तन्हाईयों में —
चॉदनी रात जब मधुमास लिए होती है ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद रामपुर —- दिनॉक: ६-११-१६

Language: Hindi
198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
"नमक"
*Author प्रणय प्रभात*
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
बुद्ध वचन सुन लो
बुद्ध वचन सुन लो
Buddha Prakash
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
2813. *पूर्णिका*
2813. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्म  चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
आत्म चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नया भारत
नया भारत
दुष्यन्त 'बाबा'
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
Rj Anand Prajapati
हास्य कवि की पत्नी (हास्य घनाक्षरी)
हास्य कवि की पत्नी (हास्य घनाक्षरी)
Ravi Prakash
सुख -दुख
सुख -दुख
Acharya Rama Nand Mandal
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
राम समर्पित रहे अवध में,
राम समर्पित रहे अवध में,
Sanjay ' शून्य'
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
Loading...