Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

*** मुक्तक : धारा परिवर्तन माँग रही ***

*** मुक्तक : धारा परिवर्तन माँग रही ***
आतंकी जब भी मरते हैं, घाटी सड़कों पर आती है ,
रक्षा करते जो वीर वहाँ, उनका ही खून बहाती है ,
धारा परिवर्तन माँग रही, दुष्टों का अब संहार करो ,
काश्मीर से कन्या कुमारी,जनशक्ति जयहिन्द गाती है ।
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
1 Comment · 536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बहू बनी बेटी
बहू बनी बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल लगाएं भगवान में
दिल लगाएं भगवान में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
NUMB
NUMB
Vedha Singh
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
मोर
मोर
Manu Vashistha
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan sarda Malu
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
SPK Sachin Lodhi
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
DrLakshman Jha Parimal
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
घर आना नॅंदलाल हमारे, ले फागुन पिचकारी (गीत)
Ravi Prakash
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
Phool gufran
Loading...