Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

*** मुक्तक : धारा परिवर्तन माँग रही ***

*** मुक्तक : धारा परिवर्तन माँग रही ***
आतंकी जब भी मरते हैं, घाटी सड़कों पर आती है ,
रक्षा करते जो वीर वहाँ, उनका ही खून बहाती है ,
धारा परिवर्तन माँग रही, दुष्टों का अब संहार करो ,
काश्मीर से कन्या कुमारी,जनशक्ति जयहिन्द गाती है ।
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 294 Views
You may also like:
तेजस्वी यादव
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल- फिर देखा जाएगा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं सरकारी बाबू हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
की बात
AJAY PRASAD
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
✍️रुसवाई✍️
'अशांत' शेखर
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
तमाशाई नज़रों को।
Taj Mohammad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
कृष्ण
Neelam Sharma
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
मेरे प्यारे पहाड़ 🏔️
Skanda Joshi
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के...
डी. के. निवातिया
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
तेरा दीदार
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बूंद....
श्रद्धा
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
VINOD KUMAR CHAUHAN
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
नित यौवन
Dr. Sunita Singh
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी...
J_Kay Chhonkar
Loading...