Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक :– जिंदा लाश से लिपटी रही !!

मुक्तक :– जिंदा लाश से लिपटी रही !!

आज मेरी साँस तेरी साँस से लिपटी रही !
और पलकें एक हसीं अहसास से लिपटी रही !
दर्द से पत्थर जिगर भी टूर कर कुम्हला गय़ा ,
आरजू मेरी आश जिंदा लाश से लिपटी रही !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 11 Comments · 618 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
बहुजन दीवाली
बहुजन दीवाली
Shekhar Chandra Mitra
संसद उद्घाटन
संसद उद्घाटन
Sanjay ' शून्य'
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
जीवन का कठिन चरण
जीवन का कठिन चरण
पूर्वार्थ
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*Author प्रणय प्रभात*
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
2736. *पूर्णिका*
2736. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
धुवाँ (SMOKE)
धुवाँ (SMOKE)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
💐प्रेम कौतुक-255💐
💐प्रेम कौतुक-255💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आत्मा की अभिलाषा
आत्मा की अभिलाषा
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...