Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक :– जिंदा लाश से लिपटी रही !!

मुक्तक :– जिंदा लाश से लिपटी रही !!

आज मेरी साँस तेरी साँस से लिपटी रही !
और पलकें एक हसीं अहसास से लिपटी रही !
दर्द से पत्थर जिगर भी टूर कर कुम्हला गय़ा ,
आरजू मेरी आश जिंदा लाश से लिपटी रही !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 11 Comments · 505 Views
You may also like:
महामना मदन मोहन मालवीय
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
तम भरे मन में उजाला आज करके देख लेना!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मर जाऊँ क्या?
Abhishek Pandey Abhi
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पुराने खत
sangeeta beniwal
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारी छवि
Rashmi Sanjay
" बेशकीमती थैला"
Dr Meenu Poonia
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
■ संवेदनशीलता
*Author प्रणय प्रभात*
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
* काल क्रिया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुलिस्तां
Alok Saxena
हिल गया इंडिया
Shekhar Chandra Mitra
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
कवि दीपक बवेजा
कड़वा है पर सत्य से भरा है।
Manisha Manjari
मेहनत का फल ।
Nishant prakhar
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे गुरू मेरा अभिमान
Anamika Singh
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
डूबे हैं सर से पांव तक
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिसाल
Kanchan Khanna
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
*जो चौकीदार थे घर के, वही घर लूट जाते हैं...
Ravi Prakash
हमको किस के सहारे छोड़ गए।
Taj Mohammad
Loading...