Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मुक्तक(अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है )

तुम्हारा साथ ही मुझको करता मजबूर जीने को
तुम्हारे बिन अधूरे हम बिबश हैं जहर पीने को
तुम्हारा साथ पाकर के दिल ने ये ही पाया है
अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है

मुक्तक(अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है )
मदन मोहन सक्सेना

234 Views
You may also like:
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बुआ आई
राजेश 'ललित'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Loading...