Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक(अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है )

तुम्हारा साथ ही मुझको करता मजबूर जीने को
तुम्हारे बिन अधूरे हम बिबश हैं जहर पीने को
तुम्हारा साथ पाकर के दिल ने ये ही पाया है
अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है

मुक्तक(अमाबस की अंधेरी में ज्यों चाँद निकल आया है )
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
556 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
3558.💐 *पूर्णिका* 💐
3558.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
श्रम दिवस
श्रम दिवस
SATPAL CHAUHAN
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शुक्र मनाओ आप
शुक्र मनाओ आप
शेखर सिंह
किस्सा कुर्सी का - राज करने का
किस्सा कुर्सी का - राज करने का "राज"
Atul "Krishn"
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
Manisha Manjari
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
પૃથ્વી
પૃથ્વી
Otteri Selvakumar
"कैंची"
Dr. Kishan tandon kranti
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Be with someone you can call
Be with someone you can call "home".
पूर्वार्थ
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...