Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो

मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
जो होठों पर हँसी है,आँख में भी कुछ नमी रखो
तुम अपने हर तरफ इक झूठ की दुनिया बसाये हो
बनावट में ही जीते हो कि थोड़ी सादगी रखो

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
■ एक बहाना मिलने का...
■ एक बहाना मिलने का...
*Author प्रणय प्रभात*
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-399💐
💐प्रेम कौतुक-399💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
जीवन अपना
जीवन अपना
Dr fauzia Naseem shad
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
3049.*पूर्णिका*
3049.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
Buddha Prakash
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...