Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 2 min read

“मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी”

मीरा का अदभुत प्रेम,
अद्भुत विरह वेदना थी,
विकल वेदना चुभ जाती थी,
वो भी वह सह जाती थीं।

नयनों से आसूं ना रुक पाते,
आंखे भी प्रेम का दर्पण दिखलाते,
जब दूध मथनियाँ से मथ लाई,
माखन काढ लियो, छाछ कोई और पिये।

हृदय पुष्प मैं तुझपे चढ़ाऊँ,
सब वारूँ तुझपे,
आजा मोहन सांझ भई,
कब से बाट निहारूं।

वृंदावन,बद्री,द्वारिका डोलू,
तेरी मीरा बनकर,
तेरे चरणों में प्राण धरूँ,
बनकर तेरी निहारिका।

तुम्हे ढूढा था कुंज अटल पर,
पाया था अपने हृदय पटल पर।

मैंने तुझको पाकर श्याम,
जीवन को त्यागा है,
कोई मुझको कुछ भी कहे,
ये तो प्रीत का धागा है।

तुम तो मेरे प्रियतम हो,
मुझको कुछ ना भाता है,
तुम ही मेरे विधाता हो,
तुमसे ही जन्मों का नाता है।

पंक्तिया मै कैसे लिखूं,
लिखी ही ना जाए,
कलम धरत मेरे हाथ कांपत,
और अश्रु गिरत जाय।

जिस धरा पर रखा,
तुमने अपने पद चिन्ह,
उन्ही पद चिन्हो पर,
मिलना हमारा शेष है।

मेरे मन के कोने में,
प्रेम का गुँजन अभी शेष है,
कभी ना अलग हो,
वो बंधन अभी शेष है।

प्रेम से छलकती हुई,
मेरी ये कविता है,
विरह में अनुराग बहती,
ये मेरी कविता है।

विरह में देखो,
अखियां मेरी तरसे,
कब मिलन होगा,
जीवन ना कटेगा हमसे।

समझ ना सके कोई प्रीत को मेरे,
कैसे रहूं मैं श्याम बिन तेरे,
छुपना छुपाना छोड़ दो प्रियतम,
अब हाथ थाम लो आकर मेरे।

पुष्पित वृक्ष तभी होते,
जब सूरज की गर्मी पाते,
प्रेमी भी पूर्ण तभी होते,
जब विरह में तप जाते।

प्रेम में ढूढे जो मतलब,
तो प्रेम कहा होए,
प्रेम अर्थ तो मेरे जैसे,
सुध बुध प्रियतम में खोए।

प्रेम समझने के लिए,
मीरा सा होना पड़ेगा,
कभी अश्रु छुपाना पड़ेगा,
कभी जहर पीना पड़ेगा।

विरह वेदना सह ना पाउँ,
अन्तर्मन से तुम्हे बुलाऊँ,
रूह बिना ये जीवन कैसा,
जल रही हूं, शमशान जैसा।

लग्न ये मीराबाई जैसा,
कान्हा कहा से लाओगे,
टूट गयी जो सासें मेरी,
तब मिलने किससे आओगे।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव✍🏻
प्रयागराज

141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
उम्मीद
उम्मीद
Pratibha Pandey
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Sakshi Tripathi
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
"कलयुग का साम्राज्य"
Dr. Kishan tandon kranti
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी...
*Author प्रणय प्रभात*
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
कवि रमेशराज
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
3278.*पूर्णिका*
3278.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब हम क्या करे.....
अब हम क्या करे.....
Umender kumar
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
शेखर सिंह
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...