Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2022 · 1 min read

” मीनू की परछाई रानू “

खून की बूंद जब पली
मेरे पाक, निर्मल गर्भ में
मीनू की ही परछाई रानू
बिठाऊं हृदय के दर्भ में,
पापा की आखों का तारा
ना ही कभी रूठना जाने
कोमल मन से हमें लुभाती
रोमी को तो लाड़ला माने,
बाली उम्र में भी है स्यानी
भावनाओं का अथाह सागर
जज़्बात मेरे तूं ही तो जाने
घर में भरती हर्ष का गागर,
सबसे प्यारी दोस्त मम्मी की
परिस्थिति मेरी तूं समझ जाती
सारी बातें मेरी ध्यान से सुनती
दुःखी मुझे देख नयन भर लाती,
कोशिश करती मदद करने की
मेरी ममता का मोल समझती
अनमोल धरोहर मेरे जीवन की
सत्कर्मों से सीना गर्वित करती,
जानवरों का साथ भाए तुझको
नित नई कला में हाथ आजमाती
पाकर तुझको तो स्वर्ग पा लिया
खुशकिस्मत हमें महसूस कराती।
Dr.Meenu Poonia

Language: Hindi
1 Like · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
वादा करके चले गए
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक बेटी हूं मैं
एक बेटी हूं मैं
Anil "Aadarsh"
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
2474.पूर्णिका
2474.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
शब्द कम पड़ जाते हैं,
शब्द कम पड़ जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Sakshi Tripathi
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Shyam Pandey
कल्पना ही कविता का सृजन है...
कल्पना ही कविता का सृजन है...
'अशांत' शेखर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
कला
कला
Saraswati Bajpai
!!महात्मा!!
!!महात्मा!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-368💐
💐प्रेम कौतुक-368💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"चिन्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...