Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 2 min read

मीनाकुमारी

हिन्दी फ़िल्म जगत के रंगीन आसमान पर चमकते सितारे सी एक सफलतम अभिनेत्री मीनाकुमारी ‘ट्रेजडी क्वीन’ कही जाती है। मीनाकुमारी का जीवन वेदनाओं के उतार-चढ़ावों से भरा रहा। वे बेहतरीन अदाकारा होने के साथ ही साथ कमाल की शायरा भी थी। मीनाकुमारी ने वसीयत में अपनी डायरियों और शायरियों के कॉपीराइट गुलजार साहब के नाम कर दी थी, जिन्होंने बाद में उसे छपवाया। उनके कलाम उनकी नीजि जिन्दगी का आईना थे। मसलन :
टुकड़े-टुकड़े दिन बीता, धज्जी-धज्जी रात मिली,
जिसका जितना आँचल था, उतनी ही सौगात मिली।

मीनाकुमारी का जन्म 1 अगस्त 1932 को हुआ था। उनका वास्तविक नाम महजबीं बानो था। गरीबी से त्रस्त उनके पिता अली बख्श ने उसके पैदा होते ही उसे अनाथालय में छोड़ आये थे, लेकिन उनका मन नहीं माना और वह पलटकर बच्ची को गोद में उठाकर घर ले आये थे।

परिवार की दयनीय आर्थिक स्थिति की वजह से मीनाकुमारी ने महज 4 साल की उम्र में फिल्मकार विजय भट्ट के साथ एक बाल कलाकार के रूप में कार्य करना आरम्भ कर दिया था। एक जगह उन्होंने लिखा है :
उदासियों ने मेरी आत्मा को घेरा है,
रुपहली चांदनी है और घुप अंधेरा है।

जिन्दगी भर एक अदद प्यार की तलाश में भटकती मीनाकुमारी और कमाल अमरोही का रिश्ता पथरीली राह जैसी था। मीनाकुमारी उसे बहुत चाहती थी, जो उसकी तीसरी बीवी थी, लेकिन बदले में उसे रुसवाई मिली। कुछ सालों बाद वे पृथक हो गए थे। मीनाकुमारी ने दिल में दर्द, तड़प और तन्हाई के चलते शराब का सहारा लिया। बावजूद उनकी कलम ने दिल के दर्द और उदासियों को व्यक्त किया। उसने लिखा था :
न हाथ थाम सके न पकड़ सके दामन,
बड़े करीब से उठकर चला गया कोई।

महज 39 बरस की उम्र में 31 मार्च 1972 को इस फ़ानी दुनिया को अलविदा कहने वाली मीनाकुमारी जब तक जिन्दा रही दर्द चुनती रही, बटोरती रही और दिल में दफ्न करती रही। इसतरह दर्द, गम और आँसुओं में डूबी मीनाकुमारी की अन्तिम इच्छा थी कि निम्नलिखित पंक्तियाँ उनकी कब्र पर लिखा जाए :
वो अपनी जिन्दगी को
एक अधूरे साज
एक अधूरे गीत
एक टूटे दिल
परन्तु बिना किसी
अफसोस के साथ
समाप्त कर गई।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
हरफनमौला साहित्य लेखक

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 2 Comments · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन
मन
Ajay Mishra
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
अपने होने का
अपने होने का
Dr fauzia Naseem shad
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
पूर्वार्थ
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
Ravi Prakash
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नेता
नेता
Raju Gajbhiye
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...