Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

मीडिया की विश्वसनीयता

देश की हालत
वैसी नहीं है
जैसी मीडिया
बताती है!
जिनसे होता है
सिस्टम को खतरा
यह उन खबरों को
छुपाती है!
आमतौर पर तो
यह सरकार के
सुर में सुर
मिलाती है!
जलते हुए
सवालों पर भी
यह जनता को
बरग़लाती है!
#इंकलाब #बुद्धिजीवी #बगावत
#Revolution #rights #Equality
#media #क्रांति #मीडिया

Language: Hindi
124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
लोकतंत्र
लोकतंत्र
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
मैंने आज तक किसी के
मैंने आज तक किसी के
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
धन्यवाद बादल भैया (बाल कविता)
धन्यवाद बादल भैया (बाल कविता)
Ravi Prakash
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
Don't lose a guy that asks for nothing but loyalty, honesty,
पूर्वार्थ
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
काँटा ...
काँटा ...
sushil sarna
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
Loading...