Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

मीठी वाणी

मीठी वाणी ही बोलिये
कर्ण में सदा मधु घोलिये
कदाचित जिह्वा विद्या बसती
हर जन को वे यूँ परखती।

कोई हॄदय न आहत हो कभी
बोले मृदु भाषा जन सभी
वाणी सदैव मधुर रखना
प्रतिपल को यूँ प्रिय बनना

कटु वचन तरकश सम होते
कोमल हिय पे शूल चुभोते
मीठी वाणी प्रतिक्षण बोलें
क्लिष्ट,विषम गाँठे खोले।

मृदु वचन अमृत समान ही
सारांश जीवन का अब यही
व्यक्तित्व यूँ सँवर जायेगा
जीवन बगिया महकायेगा

जीवन ये अल्प लघु कितना
सप्रेम,सरल सदा ही रहना
मार्ग में सब छूट जायेगा
मधुर स्मृति छोड़ जायेगा।

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नगमे अपने गाया कर
नगमे अपने गाया कर
Suryakant Dwivedi
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*प्रणय प्रभात*
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
#वर_दक्षिण (दहेज)
#वर_दक्षिण (दहेज)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
3128.*पूर्णिका*
3128.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
*शरीर : आठ दोहे*
*शरीर : आठ दोहे*
Ravi Prakash
Loading...