Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें

मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
इसलिए हम चाहते ही नही की तुमसे नज़रें मिलाई जाय

अमित

377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
दुष्यन्त 'बाबा'
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Harish Chandra Pande
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
अनुभूत सत्य .....
अनुभूत सत्य .....
विमला महरिया मौज
■ झूठा विज्ञापन लोक...
■ झूठा विज्ञापन लोक...
*Author प्रणय प्रभात*
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
2723.*पूर्णिका*
2723.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
.....,
.....,
शेखर सिंह
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...