Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2022 · 1 min read

माहौल का प्रभाव

जिनका जैसा होता माहौल
लोग वैसे बन जाते जग में
हमारे इस जीवन में उत्तम
माहौल का होना अनुपेक्ष्य ।

जैसा परिवेश में रहते हम
अच्छा- बुरा कैसा भी हो !
परिस्थितियों के सम हम
वैसे ही ढल जाते भव में।

अगर किसी कारण वश हमें
रहना पड़े निकृष्ट पड़ाव में
उस मुकाम से सहेजना हमें
तब बदलेगी हमारी ये हयात ।

ठाँव ही हमारे हर सिद्धि , पूर्णता
होती है अडिग निशनी खलक में
अगर ठाँव, ठौर हमारा रहे उत्तम
तब हम उत्कृष्ट मनुज ही बनेंगे।

अच्छा- बुरा इंसान हम बन जाते
इसमें न होती हमारी कोई गलती
जैसे परिस्थितियां ढालता है हमें
वैसे ही ढल गए हम इस भव में ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

Language: Hindi
621 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
संत ज्ञानेश्वर (ज्ञानदेव)
Pravesh Shinde
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
सुकरात के शागिर्द
सुकरात के शागिर्द
Shekhar Chandra Mitra
विडम्बना की बात है कि
विडम्बना की बात है कि
*Author प्रणय प्रभात*
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
अर्थ का अनर्थ
अर्थ का अनर्थ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
💐प्रेम कौतुक-480💐
💐प्रेम कौतुक-480💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
*ठेला (बाल कविता)*
*ठेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...